धोनी के ख़ास दोस्त आरपी सिंह ने बताई, माही के संन्यास की असली वजह

खेलकुद

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने क्रिकेट इतिहास में कई शानदार उपलब्धियां अपने नाम की है. एमएस धोनी ने भारतीय टीम को साल 2011 का विश्व कप जीताया. वहीं धोनी ने भारतीय टीम को साल 2007 के टी-20 विश्वकप में भी जीत दिलाई थी और साल 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी में भी जीत दिलाई थी. धोनी के नाम अनगिनत उपलब्धियां है.

हालांकि पिछले एक साल से महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट नहीं खेल रहे थे और इस दौरान मीडिया में उनके संन्यास को लेकर ही बातें होती थी.

अपने सफल करियर को 15 अगस्त को कहा अलविदा

15 अगस्त को महेंद्र सिंह धोनी ने अपने संन्यास का अधिकारिक ऐलान कर दिया था. उन्होंने खुद अपने इन्स्टाग्राम पोस्ट के जरिये अपने संन्यास का खुलासा किया था. उन्होंने अपने अधिकारिक इन्स्टाग्राम अकाउंट पर लिखा, ‘आप सभी के प्यार और समर्थन के लिए बहुत धन्यवाद. आज शाम 7.29 बजे के बाद से मुझे रिटायर समझा जाए.’

आरपी सिंह ने बताई धोनी के संन्यास की वजह

भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज और महेंद्र सिंह धोनी के खास दोस्त माने जाने वाले आरपी सिंह ने अपने एक बयान में कहा, ‘महेंद्र सिंह धोनी टी-20 जैसे बड़े टूर्नामेंट का इंताजर कर रहे थे और वह टल गया.

धोनी को पिछले लंबे समय से बल्लेबाजी करने का अधिक मौके नहीं मिल रहे थे और उनकी भूमिका पहले जैसे एक मैच फिनिशर के रुप में नहीं दिख रही थी. इन्हीं कारणों ने माही ने संन्यास का फैसला लिया होगा.

फिटनेस भी माही की काफी जबरदस्त है. अगर आईपीएल के रिकॉर्ड को हटा दिया जो उन्हें वनडे क्रिकेट में पिछले 1-2 साल से ठीक से बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला था.’

धोनी चौथे नंबर पर करना चाहते थे बल्लेबाजी

आरपी सिंह ने आगे अपने बयान में कहा, ‘धोनी साल 2019 के विश्व कप मे चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करना चाहते थे, लेकिन टीम मैनेंजमेंट ने उन्हें नीचे बल्लेबाजी करने को कहा, सेमीफाइनल मैच में उन्हें अपनी पर्याप्त बल्लेबाजी दिखाने का मौका नहीं मिला. अगर उन्हें जल्दी भेजा जाता, तो बेहतर रहता.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *